Women's T20 World Cup
Women's T20 World Cup

Women’s T20 World Cup : खिताबी मुकाबले में मिली हार कर गयी कई जख्मों को हरा !

Women’s T20 World Cup : खिताबी मुकाबले में मिली हार कर गयी कई जख्मों को हरा !

Written By – Anuj Kumar 

नई दिल्ली : 8 मार्च यानी संडे को मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर भारत महिला (Indian Women Cricket Team) और ऑस्ट्रेलिया महिला टीम (Australian Women Cricket Team) के बीच टी20 वर्ल्ड कप का फाइनल मुकाबला (Women’s T20 World Cup Final Match) खेला गया, जिसका नतीजा काफी निराशाजनक रहा। मेजबान टीम ने फाइनल मुकाबले में भारत को एक तरफा हराकर खिताब पर कब्जा जमाया। यह हार निराशा देने के साथ साथ 2003, 2015 और 2019 के वर्ल्ड कप में मिली हार के जख्म को ताजा कर गयी।

2003, 2015 और 2019 से इस हार का कनेक्शन ?

आपके दिमाग मे एक सवाल चल रहा होगा की आज की हार से 2003 , 2015 ओर 2019 का क्या कनेक्शन है ? तो आइए जानते है पूरा मामला। अगर इस पूरे टूर्नामेंट पर नजर डाले तो भारतीय महिला टीम बिना कोई मुकाबला हारे फाइनल में पहुचीं थी, लेकिन फाइनल मुकाबला हारकर खिताब से चूक गयी। यह पहला मौका नही है, बल्कि इससे पहले भी कई बार देखा जा चुका है, जब भारतीय टीम पूरे टूर्नामेंट में जबरदस्त खेली हो और एक मैच में खराब खेलकर खिताब जीतने से चुक गई हो।

पुरुष वर्ल्ड कप (50 ओवर)-2003, कप्तान -सौरव गांगुली

2003 में भारतीय टीम (Indian Men’s Cricket Team) सौरव गांगुली (Saurav Ganguly) की अगुवाई  बेहद शानदार फॉर्म में चल रही थी और टूर्नामेंट में पाकिस्तान (Pakistan Cricket team) लगभग सभी बड़ी टीमों को हरा चुकी थी। भारत ने एकमात्र मुकाबला ऑस्ट्रेलिया (Australian Men’s Cricket Team) के हाथों गंवाया था और फाइनल (World Cup 2003 Final) में धमाकेदार एंट्री ली थी, लेकिन भारतीय टीम खिताबी मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया से पार नही पा सकी थी और एकतरफा मुकाबले में हारकर खिताब से चूक गयी थी

पुरुष वर्ल्ड कप (50 ओवर)-2015, कप्तान- महेन्द्र सिंह धोनी

28 सालों बाद महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) की कप्तानी में भारत ने 2011 (World Cup 2011) दूसरी बार खिताब जीता था। 2015 (World Cup 2015) में एक बार फिर टीम की कमान धोनी के हाथों में थी, लेकिन टीम के कई चेहरे और खेलने की जगह बदल चुकी थी। धोनी अपनी नई टीम के साथ दूसरी बार विश्व विजेता बनने ऑस्ट्रेलिया पहुंचे थे और उम्मीद के अनुसार भारतीय टीम शानदार खेल दिखा रही थी। बड़ी बड़ी टीमो को हराकर भारत सेमीफाइनल (World Cup 2015 Semi Final) में पहुंचा था और इस बार उसका मुकाबला था मेजबान ऑस्ट्रेलिया से, लेकिन भारत मेजबान के हाथों यह मुकाबला हारकर टूर्नामेंट से बाहर हो गयी थी।

पुरुष वर्ल्ड कप (50 ओवर)-2019, कप्तान- विराट कोहली

2015 में सेमीफाइनल में हारने के बाद विराट एन्ड कंपनी से सभी देश वासियों को काफी उम्मीदें थी। इस बार टीम की कमान थी रन मशीन विराट कोहली (Virat Kohli) के हाथों में और कोहली के नेतृत्व में भारतीय टीम ने शानदार आगाज किया। भारत ने एकमात्र मुकाबला इंग्लैंड (England cricket team) के हाथों गंवाया और सेमीफाइनल में एंट्री ली थी. लगा कि भारत तीसरी बार खिताब जीतेगा, तभी भारतीय टीम सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से हारकर टूर्नामेंट से बाहर हो गयी थी।

आज खेले गए मुकाबले में भारतीय महिला टीम की हार ने इन तीन बड़ी हार के जख्मों को ताजा कर दिया। पूरे टूर्नामेंट में भातीय महिला शानदार खेली, लेकिन फाइनल के प्रेशर ने करोड़ों देश वासियों की उम्मीदों पर पानी फेर दिया। यह पहला मौका था जब टी20 महिला वर्ल्ड कप का फाइनल मुकाबला भारत ने खेला था। इससे पहले भारत ने ऑस्ट्रेलिया को ही हराकर टूर्नामेंट का आगाज किया था। इस खिताबी मुकाबले को छोड़ दे तो भारतीय महिला टीम पूरे टूर्नामेंट में बेहतरीन खेली, जिसके लिए वह तारीफ की हकदार है।

About Kanhaiya Krishna

Check Also

ऑक्सफ़ोर्ड में हुआ लेखिका अदिति चक्रवती की किताब दुबई हाइट्स का विमोचन

ऑक्सफ़ोर्ड में हुआ लेखिका अदिति चक्रवती की किताब दुबई हाइट्स का विमोचन

ऑक्सफ़ोर्ड में हुआ लेखिका अदिति चक्रवती की किताब दुबई हाइट्स का विमोचनDubai Heights book by …

Ranji Trophy, Final 2019-20, Day 3: तीसरे दिन सौराष्ट्र ने पहली पारी में 425 रन बनाए

रणजी ट्रॉफी का फाइनल  मुकाबला सौराष्ट्र और बंगाल के बीच खेला जा रहा है। जहां …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *