Supreme Court का फैसला- विश्वविद्यालयों के फाइल ईयर के होंगे एग्जाम, 30 सितंबर के बाद हो सकती है परिक्षाएं

नई दिल्ली : कोरोना महामारी के बीच एक्जाम कराए जाने को लेकर देश में जारी बहस के बीच आज सुप्रीम कोर्ट ने विश्वविद्यालयों के अंतिम वर्ष के विद्यार्थीयों की परीक्षा से जुड़े मामले में बड़ा फैसला सुनाया। सुप्रीम कोर्ट ने आज कहा कि विश्वविद्यालयों के फाइल ईयर के एग्जाम होंगे। कोर्ट ने कहा कि किसी राज्य को लगता है, उनके लिए परीक्षा कराना मुमकिन नहीं, तो वह UGC के पास जा सकता है। राज्य अंतिम वर्ष की बिना परीक्षा लिए विद्यार्थियों को प्रमोट नहीं कर सकते। 30 सितंबर तक परीक्षा करवाने के लिए UGC के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट (SC) ने मुहर लगा दी है।

सर्वोच्च न्यायालय में न्यायमूर्ति अशोक भूषण, न्यायमूर्ति आर. सुभाष रेड्डी और न्यायमूर्ति एम.आर. शाह की खण्डपीठ ने कहा कि राज्य और यूटी स्वयं ही छात्रों को बिना परीक्षा पास नहीं कर सकते हैं। उन्हें कोविड-19 महामारी को देखते हुए यूजीसी से परीक्षाओं को स्थगित करने के लिए संपर्क करना होगा। खण्डपीठ ने कहा कि UGC दिशा-निर्देश को खत्म करने का निवेदन अस्वीकार कर दिया गया है। किसी राज्य विशेष में परीक्षाओं को रद्द करने के लिए आपदा प्रबंधन प्राधिकरण UGC के निर्देशों से उपर होंगे, लेकिन राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के पास विद्यार्थीयों को बिना परीक्षा तथा पिछले वर्षों के आधार पर पास करने का अधिकार नहीं है।

संपादक – सतीश भारतीय

About Kanhaiya Krishna

Check Also

विश्व और भारत का सबसे लंबा ऑनलाइन मानव संसाधन प्रशिक्षण मैराथन प्रणव खरबंदा द्वारा किया गया

शिक्षा के रूप में इस उद्धरण को बनाने की “ शिक्षा स्वतंत्रता के स्वर्ण द्वार …

ऑक्सफ़ोर्ड बुक स्टोर में हुआ नूपुर लूथरा की किताब साइलेंट मर्डर किताब का विमोचन

एंटरटेनमेंट डेस्क-हिंदुस्तान हेडलाइंस नई दिल्ली: दिल्ली के दिल कनॉट प्लेस में लेखिका नूपुर लूथरा की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *