उम्मीदवारों पर व्यय पर होगी पैनी नजर, कलेक्ट्रेट में मुख्य कोषाधिकारी ने फ्लाइंग स्क्वायड टीम को कराया दायित्व बोध

संतोष शर्मा की रिपोर्ट :

बलिया : लोकसभा निर्वाचन में उम्मीदवारों के व्यय पर भी कड़ी नजर रहेगी। डीएम भवानी सिंह के निर्देशन में मुख्य कोषाधिकारी प्रकाश सिंह ने कलेक्ट्रेट सभागार में निर्वाचन व्यय अनुवीक्षण से जुड़े अधिकारियों को इससे जुड़ी अहम जानकारी दी। अधिसूचना लागू होने के बाद व्यय अनुवीक्षण टीम के अलावा पुलिस के क्या कर्तव्य होंगे, विस्तार से बताया। मुख्य कोषाधिकारी श्री सिंह ने निर्वाचन व्यय से जुड़े विभिन्न अधिनियमों का जिक्र करते हुए कहा, निर्वाचन प्रचार के लिए जो अनुमन्य खर्च है, उस सीमा से अधिक होने पर टीमें जरूरी कार्यवाही करेंगी। विज्ञापन, पेड न्यूज और सोशल मीडिया पर भी नजर रखने के लिए जरूरी दिशा-निर्देश दिए।

पचास हजार से ज्यादा नकदी लेकर नहीं चलेंगे

मुख्य कोषाधिकारी प्रकाश सिंह ने बताया कि चुनाव अधिसूचना जारी होने के बाद कोई भी व्यक्ति 50 हजार से अधिक नकदी लेकर नहीं जा सकते है। विशेष परिस्थिति में अधिक रूपये ले जाने पर कोई पुख्ता प्रूफ होना जरूरी होगा। पचास हजार से दस लाख तक रूपए उड़न दस्ते की टीम जब्त कर सकती है। बशर्ते इस पूरी कार्रवाई की वीडियोग्राफी करानी होगी। यानि, अगर किसी विशेष परिस्थिति में पचास हजार से अधिक रूपए लेकर जाने की जरूरत हो तो लेनदेन सम्बन्धी विवरण व खर्च का कारण स्पष्ट करना होगा।

फ्लाइंड स्क्वायड के पास होगा ये अधिकार

अधिसूचना जारी होते ही फ्लाइंग स्क्वायड की टीमें सक्रिय हो जाएंगी। उड़न दस्ता टीम आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन व अन्य शिकायतों पर कार्रवाई कर सकेगी। टीम के पास डराने, धमकाने, असामाजिक तत्व, मदिरा, हथियार, गोला-बारूद या निर्वाचकों को रिश्वत देने या भारी मात्रा में नकदी ले जाने आदि की सभी प्रकार की शिकायतों पर कार्रवाई करने का अधिकार होगा।

रैली व बैठकों में रहेगी तीसरी आंख की नजर

निर्वाचन की घोषणा के बाद उम्मीदवारों की रैली, सार्वजनिक बैठकों व अन्य बड़े खर्चों की वीडियो निगरानी दल (वीएसटी) की सहायता से नजर रखी जाएगी। टीम के सदस्य खर्चाें का लेखा-जोखा रखेंगे और उसके हिसाब से व्यय निर्धारित करेंगे। बता दें कि रैली व बैठकों में उपयोग होने वाले हर सामान के खर्च का मानक तय है। बैठक में एएसपी विजयपाल सिंह, लेखाधिकारी बेसिक शिक्षा अमित राय, लेखाधिकारी जिला पंचायत विपुल सिंह, सूचनाधिकारी एके पांडेय व निर्वाचन से जुड़े अधिकारी मौजूद थे।

About Kanhaiya Krishna

Check Also

लखीमपुर हिंसा केस का मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा क्राइम ब्रांच के सामने पेश

लखीमपुर हिंसा केस का मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा क्राइम ब्रांच के सामने पेश

रिपोर्ट : सलिल यादव लखीमपुर हिंसा केस के मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा जांच एजेंसी के …

कानपुर : बाहुबली अतीक अहमद की पत्नी शाइस्ता परवीन को AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी देंगे टिकट कानपुर से लड़ेंगी चुनाव

कानपुर : बाहुबली अतीक अहमद की पत्नी शाइस्ता परवीन को AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी देंगे टिकट कानपुर से लड़ेंगी चुनाव

रिपोर्ट : सलिल यादव   पूर्व सांसद अतीक अहमद की पत्नी शाइस्ता परवीन कानपुर से …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *