मेरठ के मलियाना में राशन दुकानों में चल रही कालाबाज़ारी 10 किलो राशन की जगह दिया जा रहा साढ़े किलो
मेरठ के मलियाना में राशन दुकानों में चल रही कालाबाज़ारी 10 किलो राशन की जगह दिया जा रहा साढ़े किलो

मेरठ के मलियाना में राशन दुकानों में चल रही कालाबाज़ारी 10 किलो राशन की जगह दिया जा रहा साढ़े किलो

मेरठ के मलियाना में राशन दुकानों में चल रही कालाबाज़ारी 10 किलो राशन की जगह दिया जा रहा साढ़े किलो

मेरठ -हिंदुस्तान हेडलाइंस डेस्क
रिपोर्ट-अतुल शर्मा
महामारी के इस दौर में केंद्र सरकार द्वारा समाज के गरीब तबके को हर संभव मदद पहुंचने की कोशिस की जा रही है। माननीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने सम्बोधन में देश के नागरिको के लिए मुफ्त राशन देने का एलान किया था। लेकिन मेरठ में कुछ राशन दुकानदार सरकार के इन प्रयासों पर पानी फेरते नज़र आ रहे है। मेरठ के वार्ड न 2 मलियाना क्षेत्र में राशन की दुकानों में हो रही काला बाज़ारी का मामला सामने आया है। यहाँ लोगो का कहना है की यहाँ समय पर राशन दूकान दार दूकान नहीं खोलते है। उन्हें राशन नहीं दिया जाता और अगर राशन देते है तो उसमे भी घोटाला होता है।

जी हाँ आपने सही सुना राशन देने में घोटाला। इस महामारी काल में कुछ राशन दुकानदारों ने अपनी मनमानी से काम करने की ठानी है। यह मामला तब खुला जब एक व्यक्ति को 10 किलो राशन की जगह साढ़े 9 किलो राशन तोल दिया गया। तस्वीरों में आप देख सकते है कैसे तराज़ू में साढ़े 9 किलो राशन तोला गया है।
यह दूकान मेसर्स समीर की है। उनसे जब हमारे संवाददाता ने इस बाबत बात की तो उन्होंने अपना पल्ला झड़ते हुए कहा की नया लड़का आया है उससे गलती हो गई। तोल मशीन में खराबी के चलते ऐसा हुआ। वह तमाम तरह की कहानिया बनाने लगे। आप खुद सुनिए क्या कहा इन साहब ने।

यहाँ जब और महिलाओं से इस बाबत बात की गई तो उन्होंने भी बताया की दूकान समय पर नहीं खुलती जब भी वह जाते है तो राशन ख़त्म हो जाता है। एक बुज़ुर्ग महिला ने बताया जब उन्होंने दुकानदार को शिकायत करने की बात कही तो दुकानदार ने कहा जाओ करो शिकायत अब तुम्हे राशन नहीं देंगे।

क्षेत्र के निगम पार्षद के पास भी इस बाबत बहुत सी शिकायत आई इस कालाबाज़ारी को लेकर। पूर्व पार्षद नरेश कुमार ने बातचीत में बताया की उन्होंने जिलापूर्ति अधिकारी को भी इस बाबत पत्र लिखा है। कई बार जनता की समस्याओं के लिए आवाज़ उठाई लेकिन कोई उचित कार्यवाही नहीं हुई। सुनिए क्या कह रहे है पूर्व पार्षद।

महामारी के इस दौर में लोगो की नोकरिया चली गई है। लोग आर्थिक परेशानियों से जूझ रहे है। इस पर सरकार द्वारा किये जा रहे राहत कार्यो को भी इन जैसे कालाबाज़ारी करने वाले लोग ठेस पंहुचा रहे है। जनता पहले ही रोटी रोजगार के लिए परेशान है ऐसे में यदि इनको सरकार द्वारा दिए जा रहे राशन भी नहीं मिल पाएंगे तो कैसे इनका गुज़ारा होगा।

 

About Kanhaiya Krishna

Check Also

दिल्ली में स्थानीय लोगो ने सिंधु बॉर्डर पर किया किसानों के खिलाफ नारेबाजी

दिल्ली । 26 जनवरी को दिल्ली में किसानों की ट्रेक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा के …

विश्व और भारत का सबसे लंबा ऑनलाइन मानव संसाधन प्रशिक्षण मैराथन प्रणव खरबंदा द्वारा किया गया

शिक्षा के रूप में इस उद्धरण को बनाने की “ शिक्षा स्वतंत्रता के स्वर्ण द्वार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *