लोकसभा चुनाव से पहले गाज़ियाबाद को तीन बड़े तोहफे देने जा रहे हैं मोदी-योगी

गाज़ियाबाद : दिल्ली से सटे गाज़ियाबाद में रहने वालों को जल्द हीं बड़ा तोहफा मिलने जा रहा है। प्रदेश की योगी सरकार व केंद्र की मोदी सरकार जनपद को तीन बड़े तोहफे देने जा रहे हैं। इनमें बहुप्रतिक्षित मेट्रो सेवा के अलावा हिंडन एयरपोर्ट पर कमर्शियल फ्लाइट सेवा शुरू करने व रैपिड रेल परियोजना का भी शिलान्यास शामिल है। आगमी 8 मार्च को सीएम योगी और पीएम मोदी गाज़ियाबाद पहुंचकर योजनाओं का शुभारंभ व शिलान्यास करेंगे।

दिलशाद गार्डन से न्यू बस अड्डा मेट्रो रूट की 8 मार्च को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा शुरुआत कर दी जाएगी। इस रूट पर आठ मेट्रो स्टेशन हैं और यह लगभग 9 किलोमीटर लंबा रूट है। इस रूट पर शहीद नगर, राजबाग, राजेंद्र नगर, श्याम पार्क, मोहन नगर, अर्थला, हिंडन रिवर और नया बस अड्डा मेट्रो स्टेशन शामिल हैं।

इसकी शुरुआत होते ही गाजियाबाद से दिलशाद गार्डन तक डायरेक्ट कनेक्टिविटी हो जाएगी। अब गाजियाबाद से सीधे दिलशाद गार्डन, सीलमपुर, शास्त्री पार्क, कश्मीरी गेट होते हुए रिठाला तथा अन्य रूट पर मेट्रो बदलकर जाया जा सकता है। इस कॉरिडोर के निर्माण में लगभग 1,800 करोड़ रुपये का निवेश किया गया है।

गाजियाबाद, नोएडा और पूर्वी दिल्ली में रहने वाले हजारों लोगों को अब फ्लाइट पकड़ने के लिए IGI एयरपोर्ट नहीं जाना पड़ेगा। हिंडन एयरपोर्ट पर कमर्शियल फ्लाइट सेवाएं 8 मार्च को प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री द्वारा शुरू होने वाली है। आम जनता गाजियाबाद के हिंडन एयरपोर्ट से ही अधिकतर फ्लाइट पकड़ सकते हैं। हालांकि शुरुआत में यहां से केवल चार शहरों के लिए फ्लाइट के इंतजाम किए गए हैं, लेकिन बाद में इसे बढ़ाया जा सकता है। बता दें कि हिंडन एयरपोर्ट पर सिविल टर्मिनल बनाने के लिए 60 करोड़ रुपये खर्च किए थे।

इसके अलावा हाई स्पीड रैपिड ट्रांजिट सिस्टम मेट्रो सर्विस यानी रैपिड रेल परियोजना जो दिल्ली से मेरठ तक गाज़ियाबाद से होकर गुजरती है। आठ मार्च को इस परियोजना के गाजियाबाद के हिस्से की आधारशिला रखी जाएगी। दरअसल यह पूरा प्रोजेक्ट 40,000 करोड़ रुपये का है और इसे तैयार होने में करीब चार साल लगेंगे।

About Kanhaiya Krishna

Check Also

CAA के समर्थन में दिल्ली विश्वविद्यालय के बुद्धिजीवी, शिक्षक और छात्रों ने आयोजित किया ओपन टॉक

CAA के समर्थन में दिल्ली विश्वविद्यालय के बुद्धिजीवी, शिक्षक और छात्रों ने आयोजित किया ओपन …

Nirbhaya Case

Nirbhaya Case : क्या है दोषियों को फांसी पर लटकाने की क़ानूनी कार्रवाई ?

Nirbhaya Case : क्या है दोषियों को फांसी पर लटकाने की क़ानूनी कार्रवाई नई दिल्ली …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *