जिलाधिकारी के अध्यक्षता में इण्डिया वाटर फाऊनडेशन का ईको वाॅस कार्यक्रम हुआ सम्पन्न

प्रवीण मिश्रा की रिपोर्ट :

श्रावस्ती : जनपद के कई क्षेत्रों में लोगो को  शु़द्ध पेय जल की समस्या है। जागरूकता के अभाव में  वे स्वछच्ता पर भी विशेष ध्यान भी नही दे पा रहें हैै। इसकें लिए विशेष जागरूकता अभियान की जरूरत है।  इण्डिया वाटर फाऊनडेशन द्वारा इस जनपद में जो लोगो को पर्यावरण व स्वच्छता व शुद्ध पेय जल के लिए जागरूक करने का जो बीडा उठाया है। वह निश्चित ही सराहनीय कदम  है  किन्तु एक मिशन के रूप में इस कार्यक्रम को सभी सम्बन्धित विभागो के साथ सामन्जस्य बनाकरके इस कार्यक्रम को सफल  बनाया जा सकता है।

उक्त विचार कलेक्ट्रट सभागार में इण्डिया वाटर फाऊनडेशन का ईको वाॅस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि जिलाधिकारी दीपक मीणा ने व्यक्त किया। उन्होने जोर देते हुए कहां कि इण्डिया वाटर फाऊनडेशन को एन0सी0एस0टी0सी0 विज्ञान एवं प्रोद्योेगिकी मंत्रालय भारत सरकार के द्वारा ईको राउटस उत्तर प्रदेश के पूर्वाचल ग्रामीण क्षेत्रों की परिस्थिति की बुद्धिमत्ता-ईको वास संवाद द्वारा हित धारकों की कार्यक्षमता वृद्धि एवं कायाकल्प परियोजना मिली है। जिसके अन्र्तगत उत्तर प्रदेश के पूर्वाचल क्षेत्र से 06 जनपदों में फतेहपुर,बलरामपुर,बहराईच,चित्रकूट, सिद्धार्थनगर के साथ ही इस जनपद श्रावस्ती का भी चयन हुआ है।

जिलाधिकारी ने बताया कि इस परियोजना के तहत क्षेत्र में जल  पर्यावरण एवं स्वच्छता एवं सही स्थिति को चिन्हित किया जाना है। तथा अलग-अलग जनपदों की समस्यों के आधार पर योजना का प्रारूप इण्डिया वाटर फाऊनडेशन तैयार किया गया है। जिसके आधार पर निश्चित समाधान सम्भव है। लेकिन इसमें निरन्तर प्रयास एवं विशेष जन जागरूकता अभियान की विशेष आवश्यकता है। इस पर विशेष रूप से बल दिया जायें ताकि इस जनपद के लोगो को जागरूक कर जिले को स्वच्छता और पर्यवरण के क्षेत्र में और आगें बढ सके।

मुख्य विकास अधिकारी अवनीश राय ने बताया कि परियोजना का मुख्य उद्देश्य युवा चैपियंस आॅॅफ चेंज बनाना है। जिसके अन्तर्गत लोगों को वर्षा जल का अनियमित वितरण, जल उपयोग क्षमता, अनियमित भूजल निकासी, जल प्रदूषण, जल की गुणवत्ता में कमी तथा सुरक्षित पीने के पानी की कमी के बारे में जागरूक किया जायेगा। तालाबों,झीलों ,कुओं के माध्यम से वर्षा जल संचयन, पर्यावरण संरक्षण जल जनित रोगों के उन्मुलन पर जागरूकता, स्वच्छता एवं सफाई,खुले में शौच से हानि, कृषि पद्धतियों में पानी की बचत के बारे में जैसी अनेकों जानकारियेाॅ लोगों तक इस परियोजना के माध्यम से पहुॅचाई जायेगीं। इससे निश्चित ही इस जनपद के लोग लाभान्वित होंगे।

इण्डिया वाटर फाऊनडेशन के अध्यक्ष ने बताया कि चूंकि भू-गर्भ जल विभाग की रिपोर्ट के अनुसार यह क्षेत्र डार्क जोन घोषित कर दिया गया है, इसलिए आने वाले समय में भी इस प्रकार के कार्यक्रम निरन्तर चलते रहेगें। उक्त अवसर पर इण्डिया वाटर फाऊनडेशन की श्वेता त्यागी ,वरिष्ठ वैज्ञानिक जे0पी0गौतम, ने भी अपना विचार व्यक्त किया। उक्त अवसर पर विभिन्नि विभाग के अधिकारियों /कर्मचारियों ने भी प्रतिभाग किया।  कार्यक्रम के दौरान श्री राम पब्लिक स्कूल के बच्चों द्वारा स्वच्छता विषय पर कला प्रतियोगिता का आयोजन कराया गया। जिसमें बेहतर प्रर्दशन करने वाले बच्चों को जिलाधिकारी ने सम्मानित भी किया। तथा विभिन्न विभागों के अधिकारियों/कर्मचारियों को भी स्वच्छता के क्षेत्र में बेहतर योगदान हेतु सम्मानित भी किया।

About Kanhaiya Krishna

Check Also

चिकित्सकों की नियमित उपस्थिति अनिवार्य-जिलाधिकारी

चन्दौली जिलाधिकारी  नवनीत सिंह चहल की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में गो-संरक्षण समिति की बैठक …

चन्दौली:पुलिस लाइन में मना पुलिस स्मृति दिवस,दी गयी श्रद्धाजंलि

चन्दौली पुलिस अधीक्षक  हेमन्त कुटियाल द्वारा पुलिस लाइन चन्दौली में पुलिस स्मृति दिवस के अवसर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *